Swami Vivekananda Motivational Hindi Story : स्वामी विवेकानन्द के मन की एकाग्रता

Swami Vivekananda Motivational Hindi Story

Swami Vivekananda Motivational Hindi Story भारत के स्वाधीन होने से पहले एक बार अमेरिका में कुछ धनवान घरों के लड़के नदी के किनारे निशाना लगाने का अभ्यास कर रहे थे। वह सभी नदी के किनारे एक स्थान पर गुब्बारे बांध कर दूर से गुब्बारों पर निशाना लगाने की कोशिश  कर रहे थे। सभी लड़के एक-एक करके निशाना लगाने की कोशिश करते परन्तु निशाना लगाते समय उनका ध्यान लक्ष्य से भटक जाता था। उनके कई बार प्रयास करने पर भी वह एक भी गुब्बारा नहीं फोड पाये। उनके इस क्रियाकलाप को एक व्यक्ति ध्यान से देख रहा था। वह व्यक्ति उन लडकों के पास आया, उसने पुरे शरीर

» Read more

Motivational story of Swami Ramtirth in Hindi

  बोध कथा Motivational story of Swami Ramtirth in Hindi चुनोती और दृढ़ निश्चय : स्वामी रामतीर्थ बोध कथा एक बार की बात है, जब स्वामी रामतीर्थ जी सन्यास लेने से बहुत पहले एम. ए में पढ़ते थे । उस समय उनका नाम तीर्थराम था । गणित उनका प्रिय विषय था। उनकी एक आदत थी कि यदि प्रश्न-पत्र में लिखा होता कि किन्ही पाँच प्रश्नों के उत्तर दीजिए, तो भी वह सभी प्रश्न हल कर देते थे । वह नहीं चाहते थे की कोई प्रश्न उनसे हल न हो । एक बार दूसरे दिन गणित की परीक्षा थी । परीक्षा

» Read more

रामसेतु निर्माण के पूण्य कार्य में गिलहरी का योगदान

  गिलहरी का पुण्य कार्य में योगदान रामसेतु बनाने का कार्य चल रहा था। भगवान राम को काफी देर तक एक ही दिशा में निहारते हुए देख लक्ष्मण जी ने पूछा भैया क्या देख रहें हैं आप इतनी देर से ? भगवान राम ने इशारा करते हुए दिखाया कि वो देखो लक्ष्मण एक गिलहरी बार – बार समुद्र के किनारे जाती है और रेत पर लोटपोट करके रेत को अपने शरीर पर चिपका लेती है। जब रेत उसके शरीर पर चिपक जाता है फिर वह सेतु पर जाकर अपना सारा रेत सेतु पर झाड़ आती है। वह काफी देर से यही कार्य

» Read more

श्री गुरुजी जीवन प्रेरक प्रसंग : चन्दन है इस देश की माटी

  एक नवयुवक का प्रतिदिन प्रातः व्यायामशाला में जाने का नियम था। एक दिन किसी कारणवश वह व्यायाम करने न जा सका। नियम न टूटे इस बात को ध्यान में रखते हुए वह कॉलेज जाते समय व्यायामशाला में गया और उसकी माटी को मस्तक पर लगाकर सीधे कॉलेज चला गया। पश्चिमी सभ्यता के रंग में रंगे हुए छात्र उसके मस्तक पर लगे माटी के टीके को देखकर हैरान हो गए।  एक ने व्यंग्य के स्वर में पूछा – तुमने कौन सा सौन्दर्य प्रसाधन ( cosmetic ) अपने मस्तक पर लगा रखा है। इसे सुनकर पास खड़े और छात्र भी हंसने लगे। उस

» Read more

Netaji subhash chandra bose inspirational story in hindi | निर्भीकता

netaji subhash chandra bose inspirational story in hindi

  Netaji subhash chandra bose inspirational story in hindi नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की निर्भीकता एक बार नेताजी सुभाषचन्द्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) जर्मनी में हिटलर (Adolf Hitler) से बातचीत कर रहे थे। नेताजी भारत को आजाद करवाने के लिए वे दुनिया भर की मदद चाहते थे। सुभाष बाबू को हिटलर यह प्रस्ताव अच्छा नहीं लगा कि अपने प्रिय देश भारत पर बमबारी की जाये या एक इंच भूमि भी किसी को दी जाये। परिणामस्वरूप उन्होंने हिटलर के प्रस्ताव को ठुकरा दिया और चलने के लिए खड़े हो गए, हिटलर ने उन्हें चेतावनी देते हुए कहा की हिटलर को ना पसंद नहीं  है। तुम हिटलर के सामने खड़े हो, तुम्हें लगता है कि तुम मुझे इन्कार करके यहाँ

» Read more