Sanskrit shlok in hindi and english about elders respect

    अभिवादनशीलस्य नित्यं वृद्धोपसेविन: ।  चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्या यशोबलम् ।।   हिंदी में अर्थ :- जो अपने बड़ों को सदैव नमस्कार करता है, किसी प्रकार से उनका अभिवादन करता है और जो वृद्धों की नित्य सेवा किया करता है, उसकी चार चीजें बढ़ती हैं – आयु, विद्या, कीर्ति और शक्ति ।    In English :-  One who daily respect and serve the elders. Who greets elders by any way, his four things increases – life, knowledge, fame and power.  

» Read more